मनोरंजन

दिल्ली में इस जगह पर मिलता है मात्र 5 रुपये में पेट भर खाना और 10 रुपये में कपड़े 

 

डेस्क: ‘दादी की रसोई’ एक पहल है जिसे अनूप खन्ना (सामाजिक कार्यकर्ता) ने शुरू किया था। इसका उद्देश्य सिर्फ 5 रुपये में गरीब और जरूरतमंद लोगों को गुणवत्तापूर्ण भोजन उपलब्ध कराना है। नोएडा सेक्टर 29 में दादी की रसोई ने समय के साथ अपार लोकप्रियता हासिल कर ली है। यहाँ मात्र 5 रुपये में देसी घी में पकाया हुआ खाना लोगों को खिलाया जाता है।

Also Read: आइंस्टाइन की थ्योरी को चुनौती देने वाले महान बिहारी गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह, दुनिया ने माना था लोहा

केवल 5 रुपये में गुणवत्तापूर्ण भोजन

यदि आपका बजट कम है और आपके पास पर्याप्त पैसा नहीं है, तो आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आप सीधे ‘दादी की रसोई’ जा सकते हैं, जहां आपको केवल 5 रुपये में गुणवत्तापूर्ण भोजन मिल सकता है। “गरीबों को खाना खिलाने का विचार अनूप खन्ना की माँ के दिमाग में आया था। वह अपने परिवार के साथ घर पर बैठी थी और खाना खा रही थी जब अचानक उनके दिमाग में एक विचार आया कि क्यों नहीं गरीब लोगों को खाना काम पैसों में भोजन कराया जाए।

Dadi-ki-Rasoi-food-at-rs-5-in-delhi-NCR

Also Read: Microsoft की नौकरी छोड़ शुरू किया खुद का कारोबार, रतन टाटा और अजीम प्रेमजी ने भी किया निवेश, आज हर युवा बनना चाहता है पीयूष बंसल

ढाई साल पहले शुरू हुई दादी की रसोई

यह सब ढाई साल पहले वहीं से शुरू हुआ था। पहले 15-20 गरीबों के लिए घर पर खाना बनाया जाता था। एक बार जब लोगों ने इसमें शामिल होना शुरू किया, तो आस-पास के कुछ दुकानदारों ने खन्ना जी का समर्थन किया। और उसे इसे जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया। फिर बड़े बर्तन, कमर्शियल गैस और स्टोव खरीदे गए। ऐसे शुरू हुई ‘दादी की रसोई’।

 

Also Read: पहले IIT, ​​फिर IPS और बाद में IAS बनने का गरिमा अग्रवाल का सफर, सफलता की पूरी कहानी

प्रत्येक दिन के लिए अलग मेनू

अपने उद्घाटन के बाद से, ‘दादी की रसोई’ लोगों के बीच एक बड़ी हिट रही है और यह हर वर्ग के लोगों को भोजन कराती है। उनके पास अलग-अलग दिनों के लिए अलग-अलग मेनू हैं। अनूप खन्ना ने कहा, “हर दिन का मेन्यू अलग होता है। इस किस्म में दाल, काले चने, सफेद मटर, चावल, सब्जी और अचार शामिल हैं। रविवार को हम खिचड़ी परोसते हैं।”

Dadi-ki-Rasoi-delhi-NCR

Also Read: एक ही नोट्स से दो बहनों ने एक साथ क्रैक किया UPSC, बताया कैसे की तैयारी

प्रतिदिन 500 से अधिक लोगों को परोसती है भोजन

दादी की रसोई प्रतिदिन 500 से अधिक लोगों को भोजन परोसती है, जो कि बहुत ही आश्चर्यजनक है। आज के महंगाई के दौर में इतने लोगों को सिर्फ 5 रुपये में खाना परोसना वाकई काबिले तारीफ है। वे कहते हैं, “शुरुआत में हम यहां से ही कच्चा माल खरीदते थे और इसमें हमें जाया रुपया खर्च करना पड़ता था, लेकिन फिर एक दोस्त ने हमें कोंडली में स्थित एक होलसेल मार्केट के बारे में बताया। अब हम वहां से कच्चा माल खरीदते हैं। यह हमें लगभग आधा खर्च करन पड़ता है। हमने एक सब्जी वाले की भी व्यवस्था की। हम उसे और उसके रिश्तेदारों को भोजन प्रदान करते हैं और वह हमें लगभग आधी दर पर सब्जी प्रदान करते हैं।”

Also Read: मात्र 2500 रुपये के निवेश से महिला ने शुरू किया बिजनेस, आज है करोड़ों की बिजनेस की मालकिन

Dadi-ki-Rasoi

भोजन की गुणवत्ता सर्वोच्च प्राथमिकता

भोजन की गुणवत्ता सर्वोच्च प्राथमिकता बनी हुई है क्योंकि हमें शायद ही कभी इतनी कम कीमत पर गुणवत्तापूर्ण भोजन मिलता है। खन्ना ने कहा, “हमारे पास 4 सीसीटीवी कैमरे हैं, जहां यह सुनिश्चित करने के लिए भोजन तैयार किया जाता है कि सब कुछ ठीक रहे। वह सभी रिकॉर्डिंग की निगरानी खुद करते हैं।” यह पूछने पर कि वे लोगों को मुफ्त भोजन क्यों नहीं देते, उन्होंने कहा, “हम मुफ्त में भोजन नहीं देते हैं क्योंकि हम नहीं चाहते कि गरीब लोग अपना स्वाभिमान खोएं। 5 रुपये कोई बड़ी राशि नहीं है और कोई भी वे इसे वहन कर सकते हैं।”

Also Read: इस व्यक्ति के बिजनेस आइडिया ने युवाओं के करियर में ला दी क्रांति, आज है 85 हजार करोड़ की कंपनी का मालिक

10 रुपये में  जरूरतमंदों को देते हैं कपड़े

भोजन के अलावा वे गरीब लोगों को कपड़े भी उपलब्ध कराते हैं और वह भी सिर्फ 10 रुपये में। वे बताते हैं, “जो लोग यहां बंगले में रहते हैं, यहां आकर कपड़े दान कर देते हैं जो अब उनके काम नहीं आते हैं। हम उन्हें इस्त्री और रीपैकिंग के बाद सिर्फ 10 रुपये में गरीब और जरूरतमंद लोगों को देते हैं। हम लोगों को 15 दिन में एक बार ही कपड़े देते हैं।

Also Read: पत्नी बनने के लिए मिला 25 लाख रुपये प्रतिमाह का ऑफर, इस बॉलीवुड अभिनेत्री ने किया खुलासा

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker