राष्ट्रीय

घर में नहीं है बिजली, ना है पिता का साया, इन परिस्थितियों में बकरियां चराकर रवीना ऐसे बनी टॉपर

 

डेस्क: राजस्थान के अलवर की बेटी रवीना गुर्जर ने यह साबित कर दिया सफलता पाने के लिए संसाधनों की जरूरत नहीं होती। राजस्थान के 12वीं बोर्ड की परीक्षा में रवीना दे 93% अंक लाकर न केवल दो ब्लॉक में टॉप किया बल्कि अपनी माता का सिर भी गर्व से ऊंचा कर दिया। बता दें कि 12 साल पहले ही रवीना के सर से पिता का साया उठ गया था।

Also Read: मात्र 2500 रुपये के निवेश से महिला ने शुरू किया बिजनेस, आज है करोड़ों की बिजनेस की मालकिन

मोबाइल की रौशनी में करती है पढ़ाई

प्रतिदिन उसे बकरियां चराने के लिए जाना पड़ता था जिससे थोड़ी आय हो सके। घर में बिजली का कनेक्शन भी नहीं था इस वजह से रात में उसे मोबाइल के टॉर्च की रोशनी में पढ़ाई करनी पड़ती थी। परेशानियों के बाद भी 93% अंक लाकर रवीना ने यह साबित कर दिया कि सफलता पाने के लिए संसाधनों की आवश्यकता नहीं होती। लक्ष्य को हासिल करने के रवीना के जुनून ने उसे मंजिल तक पहुंचाया।

Also Read: KK के इस गाने ने बदल दी थी उनकी किस्मत, रातों-रात बन गए थे लाखों फैंस, आप भी सुनिए गाना

Raveena-Gurjar-Rajasthan-Topper

Also Read: सब्जी विक्रेता की बेटी को नहीं मिला स्कूल में एडमिशन, माँ-बाप के बलिदान से ऐसे बनी बड़ी कंपनी में मैनेजर 

मां है दिल की मरीज

उस की मां भी दिल की मरीज हैं। रवीना अपनी बीमार मां के साथ-साथ दोनों भाई बहनों का भी ख्याल रखती है। बता दें कि उसकी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है। परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण घर में बिजली का कनेक्शन भी नहीं है। वह सुबह उठकर घर के सारे काम करने के बाद खाना बनाकर बकरियां चराने के लिए चली जाती है। शाम को बकरियां चरा कर लौटने के बाद फिर से घर का सारा काम खत्म कर रात को मोबाइल की रोशनी में पढ़ाई करती है।

Also Read: पोर्न फ़िल्में बनाने के आरोप में पति की गिरफ्तारी के बाद अब ऐसा है शिल्पा शेट्टी का जीवन, इतनी है संपत्ति

Raveena-Gurjar-Topper

Also Read: IAS टॉपर नूपुर गोयल ने नहीं मानी हार, इस प्रकार UP की बेटी को UPSC में मिला 11वां रैंक

मात्र ₹2000 में चलता है घर

उनके घर खर्च के लिए ₹2000 भारत सरकार के पालनहार योजना के तहत मिलती है। इन्हीं ₹2000 से रवीना को महीने भर का खर्चा निकालना पड़ता है। नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के सहयोग से रवीना को पढ़ाई करने के लिए एक मोबाइल मिल सकी है जिसकी रोशनी में वह रात में पढ़ाई करती है। इलाके में कई बड़े प्राइवेट स्कूल होने के बावजूद सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली रवीना ने टॉप किया।

Also Read: करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं यश, लेकिन फिर भी पिता चलाते हैं बस, पत्नी भी हैं बेहद उदार

Electricity-connection-in-the-house-of-Raveena-Gurjar

 

पुलिस सेवा में होना चाहती है भर्ती

जब लोगों तक उसकी बात पहुंची तो इलाके के विधायक शकुंतला रावत ने उसके घर में बिजली का कनेक्शन देने के लिए प्रयास शुरू कर दिये हैं। हाल ही में जयपुर डिस्कॉम ने रवीना के घर तक बिजली का कनेक्शन पहुंचा दिया और 50 यूनिट बिजली प्रति माह मुफ्त में देने की बात कही। जब रवीना को पता चला कि वह दो ब्लॉक में टॉप कर चुकी है तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने बताया कि वह बड़ी होकर पुलिस सेवा में भर्ती होना चाहती है।

Also Read: इस व्यक्ति के बिजनेस आइडिया ने युवाओं के करियर में ला दी क्रांति, आज है 85 हजार करोड़ की कंपनी का मालिक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker