क्राइम

बुरे फंसे सोनू सूद, पकड़ी गई उनकी चोरी, आयकर विभाग को मिले पर्याप्त सबूत

 

डेस्क: आयकर विभाग द्वारा सोनू सूद के आवास व कार्यालयों में सर्वे करने पर देश के अधिकांश लोग इसका विरोध कर रहे थे। दरअसल पिछले कुछ समय में सोनू सूद गरीबों के मसीहा बनकर उभरे थे। जिस वजह से लोगों का मानना था कि यदि सरकार द्वारा गरीबों की मदद करने वालों के साथ ऐसा रवैया अपनाया गया तो कोई भी लोगों की मदद के लिए सामने नहीं आएगा।

बीते दिनों आयकर विभाग का सर्वे खत्म होने के बाद एक बड़ी ही चौकाने वाली खबर सामने आई। बताया जा रहा है कि सोनू सूद 20 करोड़ से ज्यादा की टैक्स चोरी में शामिल है। अब अनवर यह भी आरोप लग रहे हैं कि लोगों के मदद के नाम पर वह अपने काले धन को सफेद करने में लगे हुए थे। इस बात की पुष्टि खुद आयकर विभाग ने की है कि लगातार तीन दिनों तक उनके घर का दौरा करने के बाद इस बात की जानकारी उन्हें मिली।

आयकर विभाग को मिले हैं पर्याप्त सबूत

आयकर विभाग का दावा है कि सोनू सूद के आवास तथा कार्यालय में तलाशी के दौरान कर चोरी से संबंधित कई सबूत मिले हैं। दरअसल महामारी के दौरान लोगों की मदद करके उन्होंने काफी नाम अर्जित किया। जिसके बाद उनके चैरिटी फाउंडेशन में 18 करोड़ रुपए से भी अधिक का दान किया गया। इसमें से उन्होंने केवल 1.9 करोड़ रुपए राहत कार्य में खर्च किए और बाकी बचे रुपयों को अपने बैंक खाते में ट्रांसफर कर दिया था।

Income-Tax-department-raid-at-Sonu-Sood's-residence

केजरीवाल ने किया था आयकर विभाग के सर्वे का विरोध

बीते दिनों सोनू सूद के समर्थन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उतर चुके हैं। उन्होंने सोनू सूद के समर्थन में कहा था कि सत्य की राह में अनेक कठिनाइयां आती है लेकिन जीत हमेशा सत्य की ही होती है। उनके अनुसार सोनू सूद के साथ भारत के उन लाखों परिवारों की दुआएं हैं जिनकी मदद उन्होंने मुश्किल की घड़ी में किया था। केजरीवाल के अलावा भी ‘आप’ के कई नेता सोनू सूद के समर्थन में उतर चुके हैं।

पहले भी फंस चुके हैं विवादों में

यह पहली बार नहीं था जब सोनू सूद विवादों में घिरे हो। इससे पहले भी बीएमसी ने उन पर कार्रवाई की थी। इसकी वजह उनकी रेजिडेंशियल बिल्डिंग को होटल में कन्वर्ट करना था। इसके अलावा भी लोगों की मदद करने के कारण कई बार उन्हें विवादों का सामना करना पड़ा। लोग ऐसा समझने लगे कि जरूरतमंदों का मदद करना तो बस पब्लिसिटी पाने का एक तरीका है। लेकिन अब आयकर विभाग के ऐसे दावे के बाद कुछ और ही सच सामने आ रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker