राजनीति

क्या सचमुच फिल्मी है ममता पर हमले की कहानी, पीके ने लिखी ‘ह्वीलचेयर’ से सीएम की कुर्सी तक पहुंचाने की पूरी पटकथा

डेस्क: ह्वीलचेयर पर बैठी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तस्वीर आज काफी वायरल हो रही है, लेकिन क्या सचमुच मुख्यमंत्री बनर्जी को व्हीलचेयर की जरूरत है.

क्या यह महज लोगों की सहानुभूति पाने के लिए पहले से रची गई एक कहानी है? क्या इसकी पटकथा प्रशांत किशोर ने रची है? क्या ममता बनर्जी पर हमले की कहानी पूरी झूठी थी ? क्या यह वही फार्मूला है जो दिल्ली में तैयार किया था, जिसमें अरविंद केजरीवाल को थप्पड़ जड़े गए थे? स्याही फेंके गए थे?

ऐसा तो नहीं कि ममता बनर्जी को चुनावी सभाओं में, चुनावी रैलियों में, पद यात्राओं में अधिक चलना ना पड़े इसीलिए ह्वीलचेयर का सहारा दिया गया है ? यह सारे सवाल आज न सिर्फ बंगाल, बल्कि पूरे देश के लोगों के मन में हैं ?

ऐसे में एक बांग्ला फिल्म का एक वीडियो सोशल मीडिया में काफी वायरल हो रहा है, जिसमें नेता के किरदार में अभिनेता अपने सहयोगी से कहता दिख रहा है कि चुनाव आ रहा है और चुनाव से पहले मुझ पर हमले की व्यवस्था करवाओ. इसके बाद मुझे अस्पताल ले जाया जाएगा.

अस्पताल से ही मैं मीडिया को बाइट दूंगा और फिर अस्पताल से ह्वीलचेयर पर सवार होकर निकलूंगा और उसी व्हीलचेयर से चुनावी सभाओं में जाऊंगा. इससे लोगों की सहानुभूति मुझे मिलेगी और मैं जीत जाऊंगा. इसके बाद उसका सहयोगी उस राजनेता के उस आइडिया की तारीफ करते हुए दिखता है.

काफी बरसों पहले आई इस फिल्म के इस सीन से ममता बनर्जी की पूरी पटकथा मिलती है. विपक्षी पार्टियों के नेता भी ऐसा ही आरोप लगा रहे हैं.

पिछले दिनों केंद्रीय जल संसाधन मंत्री और भाजपा नेता ने ममता के चोट पर सवाल खड़े करते हुए पूछा था कि कहीं यह पूर्व निर्धारित तो नहीं?

कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल से जारी वीडियो में ममता बनर्जी ने कहा था कि वह जल्द अपना चुनावी दौरा शुरू करेंगी. इसके लिए जरूरत पड़ी तो वह ह्वीलचेयर पर जायेंगी. राजनीतिक रणनीतिकार ह्वील चेयर पर सवार होकर ममता बनर्जी के प्रचार की योजना को चुनावी हथकंडा मान रहे हैं . वहीं विपक्ष की मानें तो ममता बनर्जी चोट और हमले का नाटक जनता की सहानुभूति हासिल करने के लिए कर रही हैं.

क्या ममता बनर्जी का यह ह्वील चेयर उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी दिलाने में  मददगार  साबित होगा?

Mamata banerjee on wheelchair

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने चुनावी क्षेत्र नंदीग्राम से लौटते समय बुधवार को घायल हो गयी थीं. इसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था, जहां वह अपना इलाज करवा रही हैं. उन्होंने इस घटना को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा था कि साजिश के तहत उन पर हमला किया गया है. इस खबर के फैलते ही राज्य भर में ममता बनर्जी के समर्थक आक्रोशित हो उठे और बुधवार रात से गुरुवार दिन भर प्रदर्शन करने लगे. कई जगहों तृणमूल समर्थकों द्वारा उत्पात मचाये जाने की सूचना भी है.

इसीबीच तृणमूल कांग्रेस के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से अस्पताल से ममता बनर्जी का एक वीडियो जारी हुआ, जिसमें वह बता रही हैं कि आखिर उनके साथ पूर्व मेदिनीपुर में क्या हुआ था और फिलहाल वह कैसी हैं.

बुआ पर हमले को लेकर भतीजे अभिषेक ने भाजपा पर साधा निशाना

पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में सीएम ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले को लेकर अभिषेक बनर्जी ने बीजेपी पर हमला बोला है. अभिषेक बनर्जी ने कहा है कि 2 मई को बंगाल की जनता इस हमले का जवाब देगी. भतीजे अभिषेक बनर्जी ने ट्वीट कर बीजेपी पर हमला बोला है. अभिषेक ने लिखा, ‘बीजेपी के लोगों 2 मई को बंगाल की ताकत देखने के लिए खुद को संभालो’ अभिषेक ने इसके साथ ही ममता बनर्जी का एक तस्वीर भी पोस्ट किया है.

एक्सरे रिपोर्ट में चोट की पुष्टि

वहीं कोलकाता की एसएसकेएस अस्पताल में ममता बनर्जी का एक्सरे किया गया, जिसमें गंभीर चोट की शिकायत मिली हैं.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि सीएम ममता बनर्जी को 48 घंटे की निगरानी में रखा जाएगा. उन्हें गंभीर चोट की शिकायत मिली हैं. वहीं उनके सीने मेंं दर्द और सांस फूलने की शिकायत भी है. सीएम के इलाज के लिए 5 डॉक्टरों की टीम बनाई गई है.

ममता पर कथित हमले को गंभीरता से ले रहा है चुनाव आयोग

ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले को चुनाव आयोग काफी गंभीरता से ले रहा है. चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी से पूरी घटना की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. चुनाव आयोग के ऑब्जर्वर विवेक दुबे ने कहा, ‘हमने प्रारंभिक रिपोर्ट के लिए डीएम को कहा है. 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट आ जाएगी, जिसके बाद हम आगे की जांच करेंगे.’

ममता अस्पताल में, टीएमसी की बिगड़ी तबीयत

 

तृणमूल कांग्रेस एक वन वूमेन आर्मी मानी जाती है. ऐसे में ममता बनर्जी के अस्पताल में रहने से तृणमूल कांग्रेस के कई कार्यक्रम प्रभावित हुए हैं. तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को सूझ नहीं रहा है कि कार्यक्रम और चुनावी अभियान को कैसे आगे बढ़ाएं. तृणमूल कांग्रेस शुक्रवार को घोषणा पत्र जारी करनेवाली थी, जिसे टाल दिया गया है. टीएमसी ने ममता बनर्जी के स्वास्थ्य को देखते हुए यह फैसला किया है. टीएमसी ने कहा है कि अब अगली डेट ममता बनर्जी के अस्पताल से लौटने के बाद ही एलान किया जाएगा.

बांग्ला में जारी वीडियो में ममता ने क्या कहा :

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बांग्ला में जारी वीडियो में कहा : ‘‘मैं सभी से शांति बनाए रखने का अनुरोध करती हूं और ऐसा कुछ भी करने से बचना चाहिए जिससे किसी को असुविधा हो . यह सच है कि मुझे पैर की हड्डी और लिगामेंट की चोट लगी है. घटना के बाद मुझे सीने और सिर में भी दर्द था. मैं कार में खड़ी थी और लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रही थी. मुझ पर इतना दबाव आया कि मैं चोटिल हो गई. मेरे पास उस समय जो भी दवाई थीं,

मैंने उसे लिया और फिर कोलकाता आ गई.  मुझे अपने अगले दो से तीन दिनों में जमीन पर वापस लौटने की उम्मीद है. चोट फिर भी बरकरार रह सकती है, लेकिन मैं मैनेज कर लूंगी. मैं एक भी मीटिंग ड्रॉप नहीं करूंगी. हो सकता है कि कुछ दिनों के लिए मुझे व्हीलचेयर की मदद लेनी पड़े. मैं आपका सपोर्ट चाहती हूं.”

बीजेपी ने कहा : सहानुभूति पाने के लिए ममता कर रही नाटक

नंदीग्राम में ममता के पैर में चोट को बीजेपी की ओर से नाटक बताया जा रहा है. ममता पर हुए हमले को बीजेपी नेता और पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह सब कुछ ममता की सहानुभूति पाने की कोशिश है क्योंकि उनकी बंगाल से जमीन खिसक गई है. वह नाटक कर रही हैं. उन्होंने कहा कि उन पर हमले की बात कोई सोच नहीं सकता. 200-300 पुलिसकर्मियों के होते हुए उन पर हमला कैसे हो गया. विजयवर्गीय ने यह भी कहा कि अगर ममता पर हमला हुआ है तो चुनाव आयोग इस प्रकरण पर सीबीआई से जांच कराए.

कांग्रेस नेता अधीर बोले, कोई विश्वास नहीं करेगा बंगाल की सीएम के साथ पुलिस नहीं रहती

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी इसे ममता का नाटक करार दिया. उन्होंने कहा कि ममता को नाटक करने की आदत है. ममता एक नेता ही नहीं हैं, बल्कि वह मुख्यमंत्री भी हैं, लेकिन ताज्जुब की बात है कि जब उन पर हमला होता है तो उस समय कोई पुलिस वाला वहां मौजूद नहीं रहता है. कोई आस-पास नहीं रहता है.

तो ऐसे में क्या कहना चाहिए कि बंगाल की मुख्यमंत्री के साथ बंगाल की पुलिस नहीं रहती है. ये किसी को यकीन आएगा. क्या कोई इस पर भरोसा करेगा उन्होंने कहा कि जब पूरे नंदीग्राम में पुलिस ने सुरक्षा का अपना जाल बिछा दिया. इस बीच वहां पर 3-4 लोग आए और ममता को धक्का दे दिया. चोट भी उन्हें पैर में लगी है. ये कोई विश्वास करेगा.

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker