मनोरंजन

ऑटो वाले ने जीती 12 करोड़ की लॉटरी, कहा ऐसे करूंगा खर्च

 

डेस्क: किस्मत कभी भी किसी की भी चमक सकती है। यदि किस्मत साथ दे तो रंक भी राजा बन सकता है और अगर किस्मत रूठ जाए तो राजा भी कहीं का नहीं रहता। केरल के एक 58 वर्षीय ऑटो ड्राइवर की किस्मत चमकने के बाद कुछ ही समय में वह करोड़ों की संपत्ति का मालिक हो गया। केरल के एर्नाकुलम जिले के कोच्चि के निवासी जय पालन ने राज्य सरकार के थिरुवोनम बंपर लॉटरी में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है।

केरल सरकार द्वारा निकाले गए इस लॉटरी का प्रथम पुरस्कार 12 करोड़ रुपए था। पुरस्कार में प्राप्त राशि से टैक्स और कमीशन काटने के बाद ऑटो ड्राइवर को लगभग 7.4 करोड़ रुपए मिलेंगे। एक गरीब ऑटो ड्राइवर के लिए यह राशि काफी अधिक है। लॉटरी जीतने के बाद से ही लगातार उनके घर में खुशी का माहौल छाया हुआ है। उनके परिवार वाले करोड़ों रुपए की लॉटरी जीतने के बाद काफी खुश हैं।

अक्सर खेलते हैं लॉटरी

जयपाल लंका कहना है कि उन्होंने मीनाक्षी लकी सेंटर से ₹300 की लागत की एक लॉटरी खरीदी थी जिसका प्रथम पुरस्कार 12 करोड़ रुपए था। उनका कहना है कि इससे पहले भी कई बार वह छोटी मोटी राशि जीत चुके हैं प्रथम पुरस्कार जीतने के बाद भी उन्हें इस बात पर यकीन नहीं हो पा रहा है कि उन्होंने लॉटरी में 12 करोड़ रुपए जीत लिए हैं।

लॉटरी जीतने के बाद नहीं किया था खुलासा

जय पालन का कहना है कि लॉटरी के प्रथम पुरस्कार के टिकट का नंबर टीवी पर राज्य सरकार के दो मंत्रियों की देखरेख में जारी किया गया था। जब उन्होंने टीवी स्क्रीन पर अपने टिकट का नंबर देखा तो पहले उन्हें यकीन नहीं हुआ। बाद में उन्होंने अपने टिकट के नंबर को क्रॉस चेक किया और तब जाकर इस विषय में अपने बेटे को बताया। उनका कहना है कि इस विषय में उन्होंने अपने परिवार वालों को और दोस्तों को कुछ भी नहीं बताया था।

ऐसे करेंगे इनाम की राशि को खर्च

12 करोड़ की लॉटरी जीतने के बाद जय पालन ने कहा कि सबसे पहले वह सारे कर्ज चुकाएंगे। बाकी बचे पैसों से वह अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाएंगे और अपने बहनों की भी आर्थिक मदद करेंगे। उनका कहना है कि धीरे-धीरे वह कर्ज में डूबते जा रहे थे यदि वह लॉटरी नहीं जीते तो उनके लिए कर्ज चुकाना काफी मुश्किल हो जाता उनके अनुसार भगवान ने उनके आंसुओं को देखा और उनकी मदद की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker