पश्चिम बंगाल

लो अब ममता दीदी मोदी के पैर छूने को तैयार हैं

डेस्क: कल तक जो ममता बनर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपमान के लिए सुर्खियों में थीं। आज वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पैर भी छूने को तैयार हैं. ऐसा उन्होंने खुद पत्रकारों से कहा. उन्होंने कहा कि बंगाल की जनता के लिए वह प्रधानमंत्री के (mamata is ready to touch modi’s feet) पैर भी छूने को तैयार हैं.

भाजपा के नेतृत्व वाले केंद्र पर ‘बदले की राजनीति’ का आरोप लगाते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि वह मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को बुलाने के फैसले को वापस ले और वरिष्ठ नौकरशाह को कोविड-19 संकट के दौरान लोगों के लिए काम करने की इजाजत दे.

मोदी सरकार पर ममता दीदी का हमला

उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (mamata is ready to touch modi’s feet) और गृह मंत्री अमित शाह उनकी सरकार के लिये हर कदम पर मुश्किल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि वे अब भी विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार को पचा नहीं पाए हैं.

Also Read: 1 जून के बाद भी इन राज्यों में जारी रहेगा लॉकडाउन, कड़ाई से पालन होगा लॉकडाऊन

विकास के लिए मोदी के पैर छूने को तैयार

ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने आगे कहा कि अगर बंगाल की वृद्धि और विकास के लिये उनसे मोदी के चरण छूने को कहा जाएगा तो वह इसके लिये तैयार हैं.

उन्होंने कहा, ‘क्योंकि आप (मोदी और शाह) भाजपा (mamata is ready to touch modi’s feet) की हार (बंगाल में) पचा नहीं पा रहे हैं, आपने पहले दिन से हमारे लिये मुश्किलें खड़ी करनी शुरू कर दी. मुख्य सचिव की क्या गलती है? कोविड-19 संकट के दौरान मुख्य सचिव को वापस बुलाना दिखाता है कि केंद्र बदले की राजनीति कर रहा है.’

Also Read: ‘यास’ के लिए केंद्र से मिलने वाले राहत पर बंगाल में सियासत गर्म

पीएम मोदी से दीदी ने पूछा सवाल

चक्रवात से हुए विनाश पर प्रधानमंत्री की समीक्षा बैठक में मौजूद नहीं रहने के कारण हो रही आलोचना के बारे में बनर्जी ने कहा, ‘यह बैठक प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के (mamata is ready to touch modi’s feet) बीच होने वाली थी. भाजपा नेताओं को इसमें क्यों बुलाया गया?’

उन्होंने दावा किया कि बीते कुछ दिनों के दौरान चक्रवात का सामना करने वाले राज्यों गुजरात और ओडिशा में हुई ऐसी ही समीक्षा बैठकों में विपक्ष के नेताओं को शामिल नहीं किया गया था.

Also Read: जानिए क्या होगा अगर एक टीका कोविशील्ड और दूसरा टीका कोवैक्सीन का लगे?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker