उत्तर प्रदेश

अब चीनी नहीं, भारत में निर्मित उत्पादों का होगा दुनिया पर राज

चीन से अपनी इकाइयां हटाने को इच्छुक अमेरिकी कंपनियों को योगी सरकार की तरफ से उत्तर प्रदेश में निवेश का आमंत्रण दिया गया है

डेस्क: भारतीय अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पहल शुरू कर दी है. चीन से अपनी इकाइयां हटाने को इच्छुक अमेरिकी कंपनियों को योगी सरकार की तरफ से उत्तर प्रदेश में निवेश का आमंत्रण दिया गया है, जिसका अमेरिकी कंपनियों ने आगे बढ़ कर स्वागत किया है.

साथ ही उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ की खूब प्रशंसा भी की. अनुमान लगाया जा रहा है कि चीन से कोरोना वायरस के फैलने और अमेरिका में इससे सबसे ज्यादा क्षति होने के कारण अमेरिका चीन से काफी खफा है. राष्ट्रपति ट्रंप ने उसे सबक सिखाने की धमकी भी दी है. ऐसे में सभी अमेरिकी कंपनियां चीन से अपनी इकाई हटानेवाली है.

स्थिति सामान्य होते ही कंपनियां वहां से हट जायेंगी. ऐसे में उन कंपनियों के लिए भारत सबसे सही और करीबी स्थान होगा, जहां शिफ्ट करने में उनको सुविधा भी होगी. इसी को ध्यान रखते हुए यूपी सरकार ने उन्हें निवेश के लिए खुला ऑफर दिया है, जिस पर उन कंपनियों ने रुचि भी दिखायी है.

विशेषज्ञों का मानना है कि अगर यह कंपनियां भारत में आकर संयंत्र लगाती है और भारतीय कंपनियों के साथ मेक इन इंडिया की तर्ज पर मिल कर उत्पाद तैयार करती है तो जल्द पूरी दूनिया पर भारत में निर्मित उत्पादों को राज हो जायेगा. इससे लॉकडाउन के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था को हुई क्षति की भरपाई भी होगी और रोजगार भी भारी संख्या में उपलब्ध होगा.

ज्ञात हो कि पिछले मंगलवार को यूएस-इंडिया स्टैटजिक पार्टनरशिप फोरम से जुडे़ उद्योगपतियों से एक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये वार्ता सत्र आयोजित किया गया था. इसमें 100 से अधिक कंपनियों ने हिस्सा लिया था, जिन्होंने यूपी में निवेश पर सहमति जतायी. ये अमेरिकी कंपनियां स्वास्थ्य क्षेत्र में जरूरी सामग्रियां, आइटी के साथ विभिन्न क्षेत्रों में निवेश करना चाहती हैं. राज्य सरकार उन्हें कानून के मुताबिक जमीन के साथ सभी सुविधाएं मुहैया कराने की बात कही है.
यूपी के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह का ट्वीट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker