मनोरंजन

CRPF जवान की बेटी मनमोहन सिंह से आशीर्वाद लेकर मात्र 22 वर्ष की उम्र में बनीं IPS

डेस्क: मात्र 22 साल की उम्र में केरल के कोल्लम की रहने वाली सुश्री सिविल सेवा परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाली सबसे कम उम्र की व्यक्ति बन गई हैं। एक पूर्व केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान की बेटी ने अपने पहले प्रयास में ही परीक्षा पास की और 151वीं रैंक हासिल की।

उनके पिता, पीटी सुनील कुमार 2004 और 2010 के बीच विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) का हिस्सा थे। वह पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह की सुरक्षा करने वाले सुरक्षा दल में भी थे।

Sushree-became-an-IPS-officer-at-the-age-of-22

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिला आशीर्वाद

अपने बचपन की यादों को याद करते हुए सुश्री कहती हैं कि 2008 में जब वह 14 साल की थीं, तब उन्हें एक बार तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरचरण कौर को गुलदस्ता भेंट करने का मौका मिला था।

वह कहती है कि उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ एक संक्षिप्त बातचीत की जिसमें मनमोहन सिंह ने उनसे उनके सपनों के बारे में पूछा। तब सुश्री ने कहा कि वह एक सिविल सेवक बनना चाहती हैं। यह सुनकर मनमोहन सिंह ने सुश्री को आशीर्वाद भी दिया।

बेटी के सपने के लिए छोड़ी CRPF की नौकरी

सिविल सेवा परीक्षा को पास करने की प्रेरणा उन्हें उनके पिता से मिली। सीआरपीएफ में कई चुनौतीपूर्ण कार्यों में काम करने के बाद, सुश्री के पिता ने अपने काम से इस्तीफा दे दिया ताकि वह अपनी बेटी के सिविल सेवक बनने के सपने को पूरा करने में उसकी मदद कर सके।

अपनी कड़ी-मेहनत और लगन से मात्र 22 वर्ष की उम्र में सुश्री ने सिविल सेवा की परीक्षा में 151वीं रैंक हासिल कर न केवल अपने सपने को पूरा किया है बल्कि देश की सभी छात्राओं के लिए एक मिसाल भी पेश किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker