पश्चिम बंगाल

टेंपरेरी कम्युनिटी किचन चलाकर सैकड़ों लोगों की मदद कर रहा है ‘स्वर्णिम फाउंडेशन’

डेस्क: देश में कोरोना महामारी के इस विकट स्थिति में इस बीमारी से लड़ने के लिए कई राज्यों की सरकारों ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। हालांकि लॉकडाउन ( temporary community kitchen by swarnym foundation) लोगों को सुरक्षित रखने के लिए ही लगाया गया है।

लेकिन कई ऐसे लोग भी हैं जो लॉक डाउन की वजह से अपने नौकरी या काम धंधे से हाथ गवा चुके हैं। ऐसे में दो वक्त का खाना जुटा पाना भी उनके लिए तो घर हो गया है। ऐसे समय में इनकी सहायता के लिए कई एनजीओ, स्थानीय इलाके के क्लब तथा गैर सरकारी संस्थाएं सामने आ रही है।

Also Read: विवेक बिंद्रा के साथ साक्षात्कार में कई अहम मुद्दों पर बातें की बाबा रामदेव ने

SWARNYM FOUNDATION HELPING NEEDY

लोगों कि मदद के लिए सामने आई स्वर्णिम फाउंडेशन

ऐसी ही एक संस्था है स्वर्णिम फाउंडेशन (temporary community kitchen by swarnym foundation) जो लगातार कई इलाकों में जरूरतमंदों को दोपहर का भोजन मुहैया करवाते हैं। 2013 में स्थापित इस आर्गेनाइजेशन को जरूरतमंदों के मदद के उद्देश्य से ही शुरू किया गया था।

इसके फाउंडर अजीत वर्मा का कहना है जब से इस संस्था का गठन किया गया था तब से ही अलग तरीकों से यह संस्था जरूरतमंदों की मदद करती आ रही है। शुरुआत में महीने में एक बार जरूरतमंदों को भोजन कराया जाता था। फिर 1 महीने से यह समय घटकर 1 सप्ताह का हो गया।

Also Read: कांग्रेस के नेता ने की नितिन गडकरी की जमकर तारीफ, तारीफ में कह दी यह बात

SWARNYM FOUNDATION TEMPORARY COMMUNITY KITCHEN

टेंपरेरी कम्युनिटी किचन चलाकर कर रही है मदद

आज के समय में अलग-अलग जगहों में टेंपरेरी कम्युनिटी किचन (temporary community kitchen) चलाकर स्वर्णिम फाउंडेशन ( temporary community kitchen by swarnym foundation) रोजाना दो से तीन अलग-अलग जगहों में जाकर को भोजन कराने का काम करती है। अजीत वर्मा के अनुसार साल में लगभग 250 कार्यक्रमों का आयोजन स्वर्णिम फाउंडेशन द्वारा किया जाता है।

अजीत वर्मा की मानें तो राज्य में 18 मई से 31 मई तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा के बाद स्वर्णिम फाउंडेशन (Swarnym foundation) अपने काम में लग गई थी। अब जब लॉकडाउन को 15 जून तक बढ़ा दिया गया है तो जरूरतमंदों को भोजन कराने का यह कार्यक्रम भी 31 मई से बढ़ाकर 15 जून तक चलाया जाएगा।

Also Read: प्रेमी के शव के साथ करवाई गई प्रेमिका कि शादी, वजह जानकर चौंक जाएंगे

swarnym foundation

कई तरह के सेंटर भी चलाए जाते हैं

अजीत वर्मा का कहना है कि जब भी बहुत कम उम्र के थे तब से ही लोगों की मदद करना उन्हें अच्छा लगता था वहीं से स्वर्णिम फाउंडेशन (Swarnym foundation) की नींव पड़ी और आज यह फाउंडेशन कई जगहों पर टेंपरेरी कम्युनिटी किचन (temporary community kitchen) चलाकर सैकड़ों लोगों की मदद करता है। लोगों की मदद करने के लिए आज स्वर्णिम फाउंडेशन परिवार में कई लोग जुड़ चुके हैं जो स्वेच्छा से यहां सहयोग देते हैं।

इसके अलावा की स्वर्णिम फाउंडेशन (temporary community kitchen by swarnym foundation) द्वारा अलग-अलग जगहों पर कई तरह के सेंटर चलाए जाते हैं, जहां सिलाई-बुनाई, डांस, कंप्यूटर इत्यादि भी सिखाया जाता है। उनके अनुसार इतना काम किसी एक व्यक्ति के लिए संभव नहीं है। सभी के सहयोग तथा दान से ही यह संस्था लोगों की मदद करने के लिए सक्षम हो सकी है।

Also Read: ब्रिटेन में नदी की तलहट्टी से मिली भारतीय-मूल के जोड़े की अंगूठी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker