खेल

कप्तानी से हटाने पर विराट कोहली का विस्फोटक बयान, बीसीसीआइ अध्यक्ष सौरभ गांगुली को बताया झूठा

डेस्क: दक्षिण अफ्रीका दौरे पर जाने के पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने विस्फोटक बयान दिया. उन्होंने इस बयान में बीसीसीआइ और इसके अध्यक्ष के बयान को गलत बताया. उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए टीम चयन से 90 मिनट पहले उन्हें एकदिवसीय टीम की कप्तानी से हटाये जाने की जानकारी दी गयी. साथ ही उन्होंने बीसीसीआइ प्रमुख के उस बयान को पूरी तरह झूठा करार दिया जिसमें सौरभ गांगुली ने कहा था ‘विराट कोहली से आग्रह किया था कि वह कप्तानी नहीं छोड़ें, क्योंकि सीमित ओवरों के प्रारूपों में दो कप्तान होना शायद सही नहीं होगा.’

कोहली ने कहा कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने उन्हें कभी टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने पर पुनर्विचार करने को नहीं कहा गया जैसा बोर्ड ने दावा किया है। भारतीय कप्तान ने गांगुली के कुछ दिन पहले के बयान से बिलकुल विपरीत जानकारी देते हुए कहा, ‘मैंने कारण बताए कि आखिर क्यों मैं टी20 कप्तानी छोड़ना चाहता हूं और मेरे नजरिए को अच्छी तरह समझा गया। कुछ गलत नहीं था, कोई हिचक नहीं थी और एक बार भी नहीं कहा गया कि आपको टी20 कप्तानी नहीं छोड़नी चाहिए।’

पत्रकारों से क्या कहा विराट कोहली ने

कोहली ने कहा, ‘जो निर्णय लिया गया, उसे लेकर जो भी बातचीत हुई, उसके बारे में जो भी मीडिया में बताया गया वह पूरी तरह गलत है। आठ दिसंबर को टेस्ट श्रृंखला के लिए चयन बैठक से डेढ़ घंटा पहले मेरे साथ संपर्क किया गया और इससे पहले टी20 कप्तानी को लेकर मेरे फैसले की घोषणा के बाद से मेरे साथ कोई संपर्क नहीं किया गया था। मुख्य चयनकर्ता ने टेस्ट टीम पर चर्चा की जिस पर हम दोनों सहमत थे। बात खत्म करने से पहले मुझे बताया गया कि पांच चयनकर्ताओं ने फैसला किया है कि मैं एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय कप्तान नहीं रहूंगा जिस पर मैंने कहा ‘ठीक है, कोई बात नहीं’।

कोहली व बीसीसीआइ पदाधिकारियों में मतभेद आया सामने

विराट कोहली के इस बयान के बाद उनके और बीसीसीआई पदाधिकारियों के बीच का मतभेद सार्वजनिक हो गया. जब एक पत्रकार ने उनसे पूछा : ‘आपने कहा था कि आप सिर्फ 2023 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय विश्व कप तक कप्तान बने रहना चाहते हो?’ इस पर कोहली ने हंसते हुए पूछा, ‘क्या यह सवाल था?’ इस पर संवाददाता ने दोबारा पूछा, ‘हां, यह सवाल है क्योंकि आपने कहा था कि आप भारत की एकदिवसीय टीम का कप्तान बने रहना चाहते हैं।’

कोहली ने कहा, ‘जब मैंने टी20 कप्तानी छोड़ी तो मैंने पहले बीसीसीआई से संपर्क किया और उन्हें अपने फैसले के बारे में बताया और उनके (पदाधिकारियों) सामने अपना नजरिया रखा।’ कोहली ने कहा कि बीसीसीआई के पदाधिकारियों ने उनके फैसले को प्रगतिशील बताया। उन्होंने कहा, ‘‘इसके विपरीत बीसीसीआई ने इसे प्रगतिशील और सही दिशा में उठाया गया कदम करार दिया था। उस समय मैंने कहा था कि हां, टेस्ट और एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय में मैं (कप्तान) बरकरार रहना चाहता हूं जब तक कि पदाधिकारियों और चयनकर्ताओं को लगता है कि मुझे इस जिम्मेदारी को निभाते रहना चाहिए।”

‘कप्तान रोहित व कोच राहुल का पूरा साथ दूंगा’

पत्रकारों से बात करते हुए विराट ने कहा कि वह सीमित ओवरों की टीम के नये कप्तान रोहित शर्मा और मुख्य कोच राहुल द्रविड़ के ‘विजन’ का पूरा साथ देंगे। वह समझ सकते हैं कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के सीमित ओवरों के टूर्नामेंटों में ट्रॉफी नहीं जीत पाने के कारण उन्हें हटाया गया। कोहली ने कहा, ‘‘बीसीसीआई के साथ मेरा संवाद स्पष्ट था। मैंने विकल्प दिया था कि अगर पदाधिकारियों और चयनकर्ताओं की सोच कुछ और है तो यह (फैसला) उनके हाथ में है। ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker