राष्ट्रीय

विश्व जनसंख्या दिवस पर आज योगी आदित्यनाथ अपनी बड़ी घोषणाओं से चौंका सकते हैं दुनिया को

 

डेस्क: आज विश्व जनसंख्या दिवस है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जनसंख्या नियंत्रण को लेकर दुनिया में सबसे ज्यादा सक्रिय दिख रहे हैं। वह 2 से अधिक बच्चे होने पर सुविधाओं से वंचित करने का मसौदा भी तैयार करवा चुके हैं। वहीं आज वह कई बड़ी घोषणाओं से दुनिया को जनसंख्या नियंत्रण के बड़े उपाय सुझा सकते हैं।

इसमें जनसंख्या नियंत्रण के लिए जागरूकता से लेकर परिवार नियोजन को बढ़ावा देने और हेल्थ क्लब बनाने पर ज़ोर होगा। उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं और इससे पहले सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ा ऐलान किया। जिसने न सिर्फ राजनीतिक पारे को बढ़ाने का काम किया बल्कि हिंदू-मुस्लिम के खेल भी शुरू होने की पूरी गुंजाइश है। सीएम आदित्यनाथ ने दो टूक कह दिया है कि उनकी सरकार यूपी में जल्द ही जनसंख्या नीति लागू करने वाली है।

नई नीति का प्रजेंटेशन देख चुके हैं

मुख्यमंत्री के मुताबिक जनसंख्या नीति बनकर तैयार है और इसे जल्द लागू भी कर दिया जाएगा। सूत्रों के अनुसार, आज विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नवीन जनसंख्या नीति 2021-30 जारी करेंगे। यूपी की जनसंख्या नीति को लेकर योगी आदित्यनाथ के सामने बीते दिन प्रजेंटेशन दी गई। योगी आदित्यनाथ ने पूरा प्रजेंटेशन देखा और समझा। जनसंख्या नीति का ड्राफ्ट सीएम के सामने रखा गया जो 2021 से 2030 तक के लिए है।

more-than-two-child-can-be-punishable

जनसंख्या नीति 2021-30 का शुभारंभ करेंगे

आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उप्र जनसंख्या नीति 2021-30 का शुभारंभ करेंगे। इसके साथ ही प्रदेश में परिवार नियोजन को प्रोत्साहित करने के लिए जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े की गतिविधियां भी शुरू हो जाएंगी। जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े के शुभारंभ के मौके पर नवविवाहितों को शगुन किट भी बांटी जाएगी। इससे उन्हें परिवार नियोजन के साधनों को प्रोत्साहित किया जा सके।

क्या है योगी का प्लान

-प्रदेश जन संख्या नीति के जरिए परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत जारी गर्भ निरोधक उपायों की सुलभता को बढ़ाया जाना और सुरक्षित गर्भपात की समुचित व्यवस्था देने की कोशिश होगी।

-उन्नत स्वास्थ्य सुविधाओं के माध्यम से नवजात मृत्यु दर, मातृ मृत्यु दर को कम करने, नपुंसकता/बांझपन की समस्या के समाधान उपलब्ध कराते हुए जनसंख्या में स्थिरता लाने के प्रयास भी किए जाएंगे।

– इस नीति का उद्देश्य 11 से 19 वर्ष के किशोरों के पोषण, शिक्षा और स्वास्थ्य के बेहतर प्रबंधन के अलावा, बुजुर्गों की देखभाल के लिए व्यापक व्यवस्था करना भी है.

दो से ज्यादा बच्चे पर सुविधाओं से वंचित होना होगा

उत्तर प्रदेश जनसंख्या विधेयक 2021 के तहत अब जिन लोगों के दो से ज्यादा बच्चे होंगे, उन्हे कई सुविधाओं से वंचित होना पड़ सकता है. ऐसे लोग सरकारी नौकरी के आवेदन के लिए अपात्र माने जाएंगे, नौकरी में हैं तो कुछ लाभों से वंचित हो जाएंगे. न तो स्थानीय निकाय चुनाव लड़ सकेंगे और न ही किसी तरह की सब्सिडी मिलेगी.

जनसंख्या समाज में व्याप्त असमानता समेत प्रमुख समस्याओं का मूल : योगी

सीएम योगी ने विश्व जनसंख्या दिवस 2021 के मौके पर ट्वीट करते हुए लिखा- बढ़ती हुई जनसंख्या समाज में व्याप्त असमानता समेत प्रमुख समस्याओं का मूल है। समुन्नत समाज की स्थापना के लिए जनसंख्या नियंत्रण प्राथमिक शर्त है। आइये, इस ‘विश्व जनसंख्या दिवस’ पर बढ़ती जनसंख्या से बढ़ती समस्याओं के प्रति स्वयं व समाज को जागरूक करने का प्रण लें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker