राष्ट्रीय

टीका देने के बदले Pfizer कंपनी कि अनैतिक मांग, टीके के बदले मांगी गयी यह जानकारी

सोहिनी बिस्वास: भारत बायोटेक का कोवाक्सिन भारत का पहला स्वदेशी कोरोनावायरस वैक्सीन है। इसने कोविड-19 को रोकने के लिए लगभग 81% प्रभावकारिता का प्रदर्शन किया है।

वर्तमान में, भारत में कोरोना वायरस के दो टीके हैं। एक है भारत बायोटेक का कोवाक्सिन और दूसरा है सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का कोविशिल्ड। कोविशिल्ड को 62% प्रभावी बताया गया है जबकि कोवाक्सिन 81% प्रभावी है। अन्य आधुनिक टीके जैसे ‘मॉडर्न वैक्सीन’ 92% प्रभावी है और फाइजर 95% प्रभावी है।

कॉवैक्सिन वैक्सीन के खिलाफ सवाल उठाए गए क्योंकि यह भारतीय है और लोगों ने माना कि यह प्रभावी नहीं है क्योंकि यह देशी है। आपको बता दें कि कोवाक्सिन ब्रिटेन के नए कोरोना-स्ट्रेन पर भी प्रभावी है। वैक्सीन में अब तक कोई साइड इफेक्ट नहीं पाया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दिल्ली के एम्स में कोवाक्सिन का टीका लिया था।

बहुराष्ट्रीय कंपनियों की अनैतिक मांग

कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां ऐसी हैं जो टीका देने के बदले देश कि ख़ुफ़िया जानकारियों की मांग कर रहे हैं। Pfizer का उदाहरण लेते हैं जो दुनिया की बड़ी कंपनियों में 49वें स्थान पर आती है। उनका लक्ष्य 100 गरीब देशों में 400 लाख टीके बेचकर 1086 करोड़ रुपये कमाने का है। कोरोना का टीका देने के बदले Pfizer की कई मांगें सामने आई हैं। यदि कोई देश उन्हें सैन्य और खुफिया जानकारी प्रदान करता है तो ही वे टीके देंगे। साथ ही टीके के कारण होने वाले दुष्प्रभावों के मामले में, फाइजर कंपनी किसी प्रकार की क्षतिपूर्ति नहीं करेगा।

इस तरह की शर्तों से सहमत होने के बाद अर्जेन्टिना को वैक्सीन का खुराक मिला। इसके अलावा, किसी भी देश में फाइजर के कर्मचारी देश के कानूनों से मुक्त रहेंगे। Pfizer द्वारा अन्य मांगों के अलावा सरकारी संपत्तियों को गिरवी रखने के लिए कहने के बाद brazil ने इसके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है।

कई गरीब देशों ने अपने लोगों की सुरक्षा के लिए अपने घुटने टेक दिए। लेकिन मामला भारत में अलग है। हम ईस्ट इंडिया कंपनी के युग के तहत नहीं रह रहे हैं। हम विकसित हुए हैं और हम अपने दम पर काम करने में सक्षम हैं। हमारे पास बड़ी आईटी कंपनियों, सोशल मीडिया कंपनियां आदि हैं। हम किसी भी क्षेत्र में किसी के सामने अपने घुटने नहीं झुका रहे हैं जिसमें चिकित्सा का क्षेत्र भी शामिल है। इसके विपरीत, हम मुफ्त में टीके दान कर रहे हैं।

ब्राज़ील उन देशों में से एक है, जिसने हमसे मुफ़्त टीके प्राप्त किए हैं। उन्होंने भारत को धन्यवाद दिया और एक छवि पोस्ट की। तस्वीर में, हनुमान जी टीकों को लेकर भारत से ब्राजील की ओर उड़ते हुए दिखाई पद रहे हैं। डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अध्यक्ष टेड्रोस अदनोम ने 60 से भी अधिक देशों को टीके प्रदान करने के लिए भारत की सराहना की। भारत ने WHO को सबसे अधिक टीके दिए।

टीकों की लागत की तुलना

विभिन्न देशों में टीकों की लागत अलग हैं। टीकों की लागत आपकी समझ के लिए रुपए में दी गयी हैं।
चीन- 2200 / –
अमेरिका- 1400 / –
यूरोपीय संघ- 1300 / –
रूस- 730 / –
साउदी अरब- 390 / –
दक्षिण अफ्रीका- 390 / –
ब्राजील- 370 / –
भारत- 250 / –
हम इस डेटा से देख सकते हैं कि भारत में वैक्सीन की सबसे कम कीमत है। यदि आप निजी अस्पतालों से वैक्सीन लेते हैं तो आपको 250 / – का भुगतान करना होगा। यदि आप किसी सरकारी अस्पताल से वैक्सीन लेते हैं, तो आपको यह मुफ्त में मिलेगा।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker