राष्ट्रीयव्यापार

क्या 2000 रुपये के नोट बंद होने वाले है? RBI के रिपोर्ट में ये खुलासा

डेस्क: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की वार्षिक रिपोर्ट की माने तो, वर्ष 2019-20 में 2000 रुपए के बैंक नोट की छपाई नहीं की गई है. केंद्रीय बैंक ने यह भी कहा है कि पिछले कुछ सालों में 2000 रुपए के नोटों के चलन में भी गिरावट दिखी है.

आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च-2018 तक बाजार में 33,632 लाख 2000 रुपए के नोट चलन में थे, जि‍नकी संख्‍या मार्च 2019 में घटकर 32,910 लाख और मार्च-2020 में 27,398 लाख रह गई.

दूसरी ओर 500 और 200 रुपए के बैंक नोटों का चलन बढ़ा है

आरबीआई रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि 2019-20 में 2000 रुपए के नोटों की छपाई के लिए सरकार की ओर से कोई ऑर्डर नहीं दिया गया. भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड और सिक्‍यूरिटी प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड ने इस दौरान कोई भी 2000 रुपए का नया नोट नहीं छापा.

बैंक ने कहा कि 2019-20 के दौरान बैंक नोट की आपूर्ति में पिछले साल की तुलना में 23.3 प्रतिशत की गिरावट रही है इसका प्रमुख कारण कोरोना वायरस महामारी और उसकी वजह से लागू लॉकडाउन है.

यह भी पढ़ें: डिजिटल स्ट्राइक से निकली चीन की हेकड़ी, भारत संग व्यापार पर कही ये बड़ी बात

आरबीआई ने बताया कि 2019-20 में 500 रुपए के 1463 करोड़ नोट छापने के ऑर्डर दिए गए और 1200 करोड़ नोटों की आपूर्ति की गई, इस दौरान 100 रुपए के 330 करोड़, 50 रुपए के 240 करोड़, 200 रुपए के 205 करोड़, 10 रुपए के 147 करोड़ और 20 रुपए के 125 करोड़ नोट छापने के लिए ऑर्डर दिए गए.

आरबीआई ने बताया कि 2019-20 के दौरान कुल 2,96,695 नकली बैंक नोट पकड़े गए, इनमें से 4.6 प्रतिशत नकली नोट रिजर्व बैंक ने पकड़े, जबकि 95.4 प्रतिशत नकली नोटों की पहचान अन्‍य बैंकों द्वारा की गई. पिछले साल की तुलना में नकली नोटों की संख्‍या में वृद्धि दर्ज की गई है.

आरबीआई के रिपोर्ट के बाद लोगों में चर्चा ये भी है कि क्या 2000 का नोट बंद हो जायेगा? मगर जानकारों का कहना है कि अभी उम्मीद नहीं किया जा सकता की सरकार इस तरह की कोई कदम उठाएगी. नोट बंदी के समय भी आम लोगों के एक वर्ग का विरोध सहना पड़ा था सरकार को, हां ये हो सकता है की 2000 के नोट का चलन धीरे धीरे कम हो जाये.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker