अंतरराष्ट्रीयव्यापार

डिजिटल स्ट्राइक से निकली चीन की हेकड़ी, भारत संग व्यापार पर कही ये बड़ी बात

डेस्क: पूर्वी लद्दाख में चल रहे सीमा विवाद के बीच भारत आर्थिक तौर पर चीन को एक के बाद एक कर कई झटके दे रहा है, डिजिटल स्ट्राइक से निकली चीन की हेकड़ी. इन झटकों से चीन के तेवर भी लगातार नरम पड़ रहे हैं. अब चीन की ओर से कहा गया है कि भारत से उसकी इकोनॉमी को अलग करने से दोनों देशों को भारी नुकसान होगा. चीन के राजदूत सुन वीडोंग ने कहा कि चीन भारत के लिए रणनीतिक खतरा नहीं है. चीनी राजदूत का यह बयान ऐसे वक्त में आया है, जब भारत ने हाल ही में चीनी ऐप बैन करने का फैसला किया है.

डिजिटल स्ट्राइक से निकली चीन की हेकड़ी, भारत संग व्यापार पर कही ये बड़ी बात

चीन ने कहा- दोनों देशों की अर्थव्यवस्था एक-दूसरे पर है टिकी

दिल्ली में भारत-चीन संबंधों पर इंस्टीट्यूट ऑफ चाइनीज स्टडीज में वेबिनार में बोलते हुए चीन के राजदूत ने ये बातें कही. उन्होंने कहा कि भारत और चीन दोनों देशों को एक-दूसरे को नुकसान पहुंचाने की सोच नहीं रखनी चाहिए. साथ ही भारत और चीन की अर्थव्यवस्थाएं एक-दूसरे पर टिकी हैं. इन्हें जबरदस्ती अलग करने से केवल नुकसान होगा.

भारतीय व्यापार महत्व को विकास के लिए बताया अहम

सुन वीडोंग ने कहा कि 2018-19 में भारत ने 92 फीसद कंप्यूटर, 82 फीसद टीवी, 80 फीद ऑप्टिकल फाइबर, 85 फीसद मोटरसाइकिल कंपोनेंट चीन से इंपोर्ट किए हैं. इससे व्यापार में वैश्विकरण का पता चलता है. इस ट्रेंड को बदलना मुश्किल है. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि भारत-चीन के बीच ट्रेड सहयोग से मोबाइल, हाउसहोल्ड एप्लायंसेज, इन्फ्रास्ट्रक्टर जैसी इंडस्ट्रीज का डेवलपमेंट तेजी से हुआ है.

यह भी पढ़ें: चीन को मिलेगा एक और झट’का, चीनी सामानों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने की तैयारी

डिजिटल स्ट्राइक से निकली चीन की हेकड़ी

भारत ने पहले 59 चीनी ऐप को बैन किया. इनमें टिकटॉट, शेयर इट, यूसी ब्राउसर जैसी ऐप शामिल थीं. भारत ने इनके पीछे सुरक्षाकारणों का हवाला दिया. हाल ही में भारत ने 47 और चीनी ऐप बैन कर दिए हैं. इसके अलावा भारत की नजर 275 अन्य ऐपों पर है. इन्हें भी जल्द बैन किया जा सकता है. डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने और चीन से गैर-जरूरी वस्तुओं का इंपोर्ट कम के लिए कलर टीवी के आयात पर रोक लगा दी गई है. देश के कई सेक्टरों में चीन से इंपोर्ट पर रोक लगाने का फैसला भी लिया गया है.

पहले सीमा से हटे चीनी सेना

उधर, भारत ने पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के पीछे हटने के दावों को खारिज कर दिया है. भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि लद्दाख में चीनी सैनिकों के पीछे हटने का प्रोसेस पूरा नहीं हुआ है. इस मामले में कमांडर स्तर की बैठक का अगला राउंड जल्द होगा. उम्मीद है चीन क्षेत्र में शांति के लिए गंभीरता दिखाएगा.

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker