व्यापार

चीन को मिलेगा एक और झट’का, चीनी सामानों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने की तैयारी

डेस्क: चीन से तनाव के बाद पूरे देश में चीन के प्रति आक्रो’श का माहौल है, इसी बीच खबर आ रही है कि मोदी सरकार चीन से इम्पोर्ट होने वाले सामानों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने का विचार कर रही है.

सूत्रों का कहना है कि अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है, पर जल्द ही कस्टम ड्यूटी बढ़ाया जा सकता है, साथ ही गैर-जरूरी सामानों के इम्पोर्ट में कटौती की जाने की कोशिश है. फिलहाल वाणिज्य मंत्रालय इसे लेकर वित्त मंत्रालय से चर्चा कर रहा है.

बात दें कि भारत के कुल इम्पोर्ट का लगभग 14 प्रतिशत चीन से आता है. अप्रैल 2019-फरवरी 2020 के बीच, भारत ने 62.4 बिलियन डालर का सामान इम्पोर्ट किया है, जबकि पड़ोसी देश में निर्यात 15.5 बिलियन डालर था.

चीन से आयात किए जाने वाले मुख्य सामान में घड़ियां, खिलौने, खेल के सामान, फर्नीचर, गद्दे, प्लास्टिक, बिजली के उपकरण, रसायन, लोहा और इस्पात की वस्तुएं, खनिज ईंधन शामिल हैं.

चीन को सबक सिखाने में जुटा भारत

लद्दाख के गलवान घाटी में चीन की करतूत के बाद भारत अब उसे सबक सिखाने में जुट गया है. इससे पहले भारतीय रेलवे ने चीनी कंपनी से अपना एक करार खत्म कर दिया. 2016 में चीनी कंपनी से 471 करोड़ का करार हुआ था, जिसमें उसे 417 किलोमीटर लंबे रेल ट्रैक पर सिग्नल सिस्टम लगाना था. सरकार BSNL और MTNL को पहले ही निर्देश दे चुकी है कि वो चीनी उपकरणों का इस्तेमाल कम करें.

व्यापारिक संगठन कैट ने चीनी उत्पादों का बहिष्कार और भारतीय वस्तुओं को बढ़ावा देने वाले राष्ट्रीय अभियान को और अधिक तेज करने का फैसला किया है. संगठन ने 500 सामानों की सूची तैयार की है, जिससे चीन से नहीं मंगाने का फैसला लिया गया है.

गौरतलब है कि देश में चीन विरोधी माहौल चरम प है. सोशल मीडिया पर तो जबरदस्त अभियान चल रहा है कि चीनी कंपनियों के माल का बहिष्कार किया जाए. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(RSS) से जुड़ा स्वदेशी जागरण मंच यह मांग कर चुका है कि चीनी कंपनियों को भारतीय प्रोजेक्ट्स के ठेके न दिए जाएं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker