टेक्नोलॉजी

IIT बॉम्बे के पूर्व छात्रों ने बनाई ऐसी मशीन, किसानों को मिलेगी काफी मदद

 

डेस्क: तीन आईआईटी बॉम्बे के पूर्व छात्र गुणवंत नेहेते, शरयू कुलकर्णी और विकास झा ने किसानों को अपनी उपज को लंबे समय तक ताजा रखने में मदद करने के लिए एक अनोखी मशीन को डिजाइन किया है जिसका नाम उन्होंने सब्जी कूलर रखा है। उन्होंने 2019 में ठाणे में एग्री-टेक स्टार्टअप शुरू किया, जिसका नाम RuKart Technologies है, जिसका उद्देश्य ऐसे कृषि तकनीकों को बनाना है जो किसानों के लिए मददगार साबित हों।

यह भी पढ़ें: केवल ₹500 से बनाई अरबों की संपत्ति, इस गलती की वजह से आज जेब में फूटी कौड़ी भी नहीं, जानिए बीआर शेट्टी की कहानी

दो गुजराती भाइयों का ‘वरदान’, अब मिनटों में पीने योग्य हो जाएगा दूषित पानी

किसानों के मुनाफे में होगी वृद्धि

सबजी कूलर की ख़ास बात यह है कि यह एक किफायती, बिना रखरखाव वाला कूलर है जो किसानों को उनके मुनाफे में वृद्धि करके एक जीवन रेखा प्रदान करता है। इससे किसान जब चाहें अपनी उपज की कटाई कर सकते हैं, और बेहतर कीमत पाने के लिए इसे कुछ दिनों के लिए स्टोर कर सकते हैं। हालाँकि, इसे दिन में कम से कम एक बार पानी देने की आवश्यकता होती है। इस मशीन को काम करने के लिए बिजली की आवश्यकता नहीं है। किसान की आवश्यकता के आधार पर सब्जी कूलर विभिन्न आकारों में आता है।

IIT-Bombay-alumnus-invented-Sabji-cooler

यह भी पढ़ें: जानिए टोक्यो पैरालंपिक में भारत का परचम लहराने वाले IAS अधिकारी सुहास की कितनी है संपत्ति

Social Media के अधिक उपयोग से लड़कियों में बढ़ रही यह बीमारियां, लड़के दूर रहें

सब्जी कूलर किसानों के लिए वरदान

RuKart Technologies का मुख्य उद्देश्य खेती में जोखिम को कम करने के लिए किफायती, मजबूत और स्केलेबल उत्पादों का विकास और प्रसार करता है। RuKart Technologies के सह-संस्थापक विकास झा कहते हैं कि “हमने कई गांवों का दौरा किया और महसूस किया कि किसान अपनी उपज की बिक्री से इतना अधिक नहीं कमा रहे थे, और हम उस समस्या का समाधान खोजना चाहते थे, इसलिए हमने सब्जी कूलर को बनाया।”

RuKart Technologies ने ओडिशा, बिहार और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में पहली 75 सब्जी कूलर की इकाइयाँ स्थापित कीं। लॉकडाउन के समय सब्जी कूलर को और अधिक दृश्यता प्राप्त हुई क्योंकि किसान उस समय के लिए अपनी बिना बिकी उपज को स्टोर कर सकते थे और फिर उसे अच्छी कीमत पर बेच सकते थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker