महाराष्ट्र

द मैराथन वुमन: पति की जान बचाने के लिए साड़ी पहन कर नंगे पैर दौड़ पड़ी

डेस्क: कहते हैं ना कि इंसान जिस चीज को दिल से चाह जाए, उसे हासिल करने से उसे कोई नहीं रोक सकता. इसके लिए पूरी दुनिया से ही क्यों ना लड़ना पड़े. आज हम आपको ऐसा ही एक वाक्या बताएंगे, जिसमें प्यार, मोहब्बत, जुनून क्या होता है यह आपको समझ मे आएगा.

हम 60 वर्ष की एक महिला की कहानी बताएंगे, जिसने अपने पति के इलाज के लिए मैराथन दौड़ में हिस्सा लिया और उसे जीता. मैराथन दौड़ बहुत आसान नहीं होता, उसमें भाग लेना और उसे जीत जाना वह भी 60 साल की उम्र में किसी चमत्कार से कम नहीं, लेकिन वह पति का प्रेम था, जिस प्रेम के कारण वह जज्बा था, जिसने महाराष्ट्र की लता खरे को उस मैराथन दौड़ में जीत दिलाई.

खेतों में मजदूरी का काम करनेवाले लता और उनके पति पर उस वक्त मानो पहाड़ टूट गया, जब डॉक्टर ने लता से कहा कि आपके पति काफी बीमार हैं, उनके इलाज के लिए एमआरआई स्कैन करवाना पड़ेगा. इसके लिए ₹5000 की जरूरत है.

हम बात कर रहे हैं 2014 साल की. उस समय लता ने एक साथ कभी ₹5000 नहीं देखे थे. जब डॉक्टर ने इतनी बड़ी रकम की जरूरत बताई तो लता को सूझ नहीं रहा था कि आखिर वह कहां से इतने रुपए लाएगी. इसी में गांव के ही किसी व्यक्ति ने बताया की पास में ही एक मैराथन दौड़ होने वाली है. उस दौड़ में जो जीतेगा उसे ₹5000 की नकद इनाम मिलेंगे.

the-marathon-woman-who-ran-barefoot-to-save-her-husbands-life

लता को यह पति की जान बचाने के लिए एक उपाय के तौर पर दिखी. उसने उस दौड़ में नाम पंजीकृत करवा दिया. लेकिन लता को खेल, मैराथन, दौड़ में हिस्सा लेने का कोई अनुभव नहीं था. इसकी कोई जानकारी नहीं थी. इसके बावजूद ₹5000 का इनाम उसे मजबूर कर रहा था कि वह मैराथन दौड़ में हिस्सा ले. जिस दिन मैराथन की दौड़ थी, वह साड़ी चप्पल पहनकर पहुंच गयी.

दौड़ शुरू हुई तो वह भी दौड़ने लगी. इतने में उसकी चप्पल टूट गई, लेकिन लता को ₹5000 जीतने थे, जिससे उसे पति का इलाज कराना था. इसलिए उसने चप्पल छोड़ दौड़ना जारी रखा और वह उस दौड़ में सबसे आगे निकली. वह जीत गई. उसे पति के इलाज के लिए पैसे भी मिल गए. पति का इलाज हो गया,

लेकिन उस मैराथन दौड़ ने मानो लता के मुंह में खून लगा दी. उस दिन के बाद से लता जहां भी मैराथन दौड़ का आयोजन होता, साड़ी चप्पल पहन कर तो कभी नंगे पैर भी दौड़ने के लिए वहां पहुंच जाती. लता इतनी चर्चित हुई कि उनकी कहानी पर मराठी में एक फिल्म भी बनी. उस फिल्म का नाम था ‘लता भगवान करे’, जो 2020 के 17 जनवरी को रिलीज हुई.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker